Blog


मानसिक-रोग-के-लक्षणों-को-जानकर-कैसे-करें-इससे-खुद-का-बचाव

आटिज्म के क्या है – लक्षण, कारण, इलाज व परहेज ?

September 12, 2023

520 Views

इसमें मरीज न तो अपनी बात ठीक से कह पाता है और ना ही दूसरों को अपनी बात समझा पाता है और न उनसे संवाद स्थापित कर सकता है। यह एक डेवलपमेंटल डिसेबिलिटी ऑटिज्म या ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर की एक दिमागी बीमारी है। इस बीमारी से व्यक्ति कैसे खुद का बचाव कर सकता है, इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे ;

दिमागी आटिज्म क्या है ?

  • ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर एक डेवलपमेंटल डिसेबिलिटी है जो किसी व्यक्ति की कम्युनिकेट करने और खुद को व्यक्त करने की क्षमता, दूसरों के व्यवहार और अभिव्यक्ति के समझ को प्रभावित करती है और सामाजिक कौशल को प्रभावित करती है। इस स्थिति से पीड़ित लोगों को स्वस्थ व्यक्तियों और सामान्य रूप से समाज के साथ बातचीत करने में परेशानी होती है।
  • ऐसे व्यक्ति सामान्य रूप से शब्दों या कार्यों के माध्यम से खुद को व्यक्त नहीं कर सकते है, और अक्सर असामान्य या बार-बार एक जैसा व्यवहार करते है। और इस व्यवहार को ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि यह किसी एक स्थिति को नहीं दर्शाता है बल्कि वास्तव में विभिन्न स्थितियों के लिए एक शब्द है।
  • ऑटिज्म को एक न्यूरो बिहेवियरल कंडीशन के रूप में भी परिभाषित किया गया है, जिसका अर्थ है कि यह एक बेहवियरल डिसऑर्डर है जो मस्तिष्क की भावनाओं और समझ को जानने में असमर्थता का सामना करता है।

आटिज्म के कारण क्या है ?

  • इस बीमारी के स्पष्ट कारण पता नहीं है, लेकिन कई व्यावहारिक कारण है जिसकी वजह से आटिज्म की समस्या बढ़ जाती है। 
  • वहीं ऑटिज़्म, मस्तिष्क के असामान्य कामकाज और विचारों, अभिव्यक्ति और व्यवहार को संसाधित करने की अक्षमता का परिणाम माना जाता है।
  • इसके कारणों में बच्चों से माता-पिता का संवाद कम होना भी शामिल है। 
  • बच्चों का बहुत ज्यादा अकेले में रहना। 
  • स्क्रीन टाइम यानी टीवी देखने के कारण भी ये समस्या हो सकती है। 
  • मोबाइल का अत्यधिक प्रयोग करना आदि कारण शामिल है।

लुधियाना में बेस्ट साइकेट्रिस्ट की मदद लेकर भी आप इसके कुछ अन्य कारणों का पता लगा सकते है, जिससे आटिज्म से ग्रस्त व्यक्ति का इलाज आसानी से किया जा सकें।

आटिज्म के क्या लक्षण नज़र आते है ?

  • परिवार या अन्य बच्चों के साथ सहज न रहना। 
  • अन्य बच्चों से दूरी बनाए रखना। 
  • खुद में ही खोए रहना। 
  • बोलने की क्षमता का प्रभावित होना। 
  • सही जवाब न दें पाना।
  • इशारों की भाषा को न समझना।
  • अपनी भावनाओं को न ही सामने रख पाना और न ही दुसरो की भावनाओं को समझ पाना। 
  • एक ही शब्द को बार-बार दोहराना और बोले गए शब्द को खुद से समझ पाने में असमर्थता का सामना करना।

यदि आटिज्म के लक्षण में व्यक्ति खुद को ही नुकसान पहुंचाने लगें, तो इसके लिए आपको ज्यादा समय जाया न करते हुए जल्द पंजाब में मानसिक रोग विशेषज्ञ के संपर्क में आना चाहिए।

आटिज्म के दौरान कौन-सी सावधानियां बरते ? 

गर्भावस्था के दौरान उचित देखभाल, जिसका अर्थ है उन दवाओं से बचना जो गर्भवती महिलाओं के लिए उपयुक्त नहीं है, गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान या शराब नहीं पीना चाहिए। वहीं जो लोग इन दिशानिर्देशों का पालन करते है, वे इस बात की गारंटी नहीं दे सकते कि उनके बच्चे ऑटिज्म से प्रभावित नहीं होंगे। साथ ही, अगर किसी बच्चे को ऑटिज्म का पता चलता है, तो उसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। इसके अलावा इस समस्या के दौरान निम्न सावधानियां बरतनी चाहिए ; 

  • ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों और किशोरों की लगातार निगरानी की जानी चाहिए।
  • ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों और युवा वयस्कों के सुरक्षित वातावरण से भाग जाने या भागने की संभावना होती है। तो माता-पिता को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनके बच्चों को ऐसा अवसर न मिले।
  • पड़ोसियों, बच्चों और ऑटिज्म से पीड़ित व्यक्तियों के साथ बातचीत करने वाले किसी भी अन्य व्यक्ति को इस स्थिति के बारे में सूचित किया जाना चाहिए। उन्हें इस बारे में शिक्षित किया जाना चाहिए कि ऑटिज्म से पीड़ित लोगों के साथ कैसा व्यवहार करना है।
  • ऑटिज्म के कारण होने वाले लक्षण और व्यवहार व्यक्तियों में बहुत भिन्न होते है। माता-पिता को अपने बच्चों के व्यवहार और विचार प्रक्रिया का अध्ययन और निरीक्षण करने की आवश्यकता है, ताकि उन्हें खुद को हानिकारक परिस्थितियों में डालने से रोका जा सके। 

आटिज्म की समस्या होने पर किन खाने की चीजों का करें परहेज !

  • ओमेगा 3 फैटी एसिड अन्यथा स्वस्थ व्यक्तियों में न्यूरोलॉजिकल फ़ंक्शन और मस्तिष्क के विकास को बढ़ावा देने के लिए जाने जाते है। इसलिए ऑटिज्म से पीड़ित लोगों को इसका सेवन करना चाहिए।
  • मैग्नीशियम सप्लीमेंट्स का सेवन करना चाहिए आटिज्म की समस्या से ग्रस्त व्यक्ति को। 
  • ऑटिज्म से पीड़ित लोगों को अक्सर सोने और आराम करने में परेशानी होती है। नींद की कमी अन्य लक्षणों को बढ़ा देती है और व्यवहार ऑटिज्म के कारण होता है। मेलाटोनिन सप्लीमेंट्स ऐसे व्यक्तियों को बेहतर नींद और विश्राम पाने में मदद कर सकती है जो बदले में ऑटिज़्म के अन्य व्यवहार संबंधी पहलुओं में सुधार करते है।
  • ऑटिज्म से पीड़ित व्यक्ति डेयरी उत्पादों और ग्लूटेन से भरपूर खाद्य पदार्थों से नकारात्मक रूप से प्रभावित हो सकते है। 

आटिज्म का इलाज क्या है ?

  • आटिज्म के इलाज में डॉक्टर प्ले थेरेपी का सहारा लेते है। 
  • इसके अलावा बेहवियरल थेरेपी का चयन भी उनके द्वारा किया जाता है। 
  • ऑक्यूपेशनल थेरेपी का चयन करना। 
  • स्पीच थेरेपी का चयन। 
  • फिजिकल थेरेपी का चयन। 
  • ऑटिज्म के मरीजों को आराम की जरूरत होती है। इसलिए इनके लिए मालिश, कंबल चिकित्सा, ध्यान भी मददगार साबित हो सकते है।

यदि आप या आपके करीबी आटिज्म जैसी गंभीर समस्या का सामना कर रहें है, तो इससे बचाव के लिए आपको मानस हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।

निष्कर्ष :

आटिज्म एक गंभीर मानसिक समस्या है इसलिए जरूरी है की व्यक्ति इस तरह की समस्या से जितनी जल्दी हो सकें खुद का बचाव करें ताकि आगे चल के उसे किसी भी तरह की समस्या का सामना न करना पडे। वहीं इस समस्या में किसी भी तरह की दवाई या अन्य इलाज या थेरेपी का चयन करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर सलाह लें।